Saturday, 29 February 2020

मोर के पँख interesting article

मोर के पँख

मोर के पँख
Interesting article

एक मोर जंगल में अपने खूबसूरत पँख नोच फेंक रहा था- एक अक्लमंद यह देख कर बड़ा तअज्जुब किया और बोला- ए ताऊस ए मोर! तेरा दिल किस तरह गवारा करता है कि तू अपने खूबसूरत परों (पँखों) को उखाड़ कर फेंके- क्या तुझे पता नहीं कि लोग इन परों को बड़े जोक व शोक से उठा कर कुर्आन जैसी मुक़द्दस किताब के अंदर रख लेते हैं- और म्हबोबाने जहाँ इन के पंखे बना कर अप ने खूबसूरत चेहरों को हवा देते हैं- यह तेरी बड़ी नाशुक्री और गुस्ताखी है कि साणे की ऐसी नक़्श व निगार चीज़ को इस क़दर बेकद्री से ज़ाए कर रहा है-
Interesting article in Hindi
Interesting article

मोर यह सुन कर कुछ न बोला- मगर उस की आँखों से खुद बखुद आंसू निकल गए- क्यों कि वह दर्द दिल का पता देते थे इस लिए सब अश्क (आंसू) रेज़ी से मुतास्सिर हुए- जब आँखों की राह वह अपनी दिल की आग निकाल चूका था तो बोला ए दाना' इंसान अब मेरी बात भी सुन ले तू मेरे खुशनुमा परों को देखता है मगर मैं अपने ऐबों को देख कर अश्कबार हूँ (रो रहा हूँ) न मेरे गोश्त में मज़ा है न मेरे पाओं में- खूबसूरत लोग मेरे पंखों की तारीफ करते हैं- और मैं अपनी ज़िश्त (भद्दा) पाई से शर्मिंदा हूँ- सिर्फ मेरे पर ही हैं जिन के लिए शिकारी मेरी तलाश में रहते हैं- और मुझे मार गिराते हैं- काश गोश्त और पैरों की तरह मेरे पर भी ख़राब हो- और मेरी नीलगों गर्दन भी बदसूरत होती ताकि मैं शिकारियों की निशाना ह् बनता- मैं अपने दुम (पूँछ) के पर नोच कर फेंख रहा हूँ- ताकि मुझे लंडूरा देख कर शिकारी मेरी जान लेने के दरपे न हों-
हुनर और इख़्तियार उन्ही को सूद मंद (लाभप्रद) है जो अल्लाह से डरने वाले हैं वरना यह हुनर और इख़्तियार उन के लिए है वैसा ही वबाल बन जाता है जिस तरह मोर के लिए पँख-

नोट : अगर आर्टिकल अच्छा लगा तो शेयर जरुर करें अपने Facebook WhatsApp Twitter Instagram पर

No comments:

Post a comment